गुजरात पुलिस ने दलित युवक को जूता चाटने को मजबूर किया

0
898

अहमदाबाद। क्या हो जब कानून के रखवाले खुद कानून को हाथ में लेकर लोगों पर अत्याचार करने लगें? क्या हो जब लोग गुंडो से ज़्यादा पुलिसवालों से डरें और क्या हो जब पुलिस हिरासत में भी लोग असुरक्षित महसूस करें. पुलिस की ऐसी ही गुंडई गुजरात के अहमदाबाद के अमराईवाड़ी में देखने को मिली जब पुलिस ने 38 साल के दलित युवक को बेवजह हिरासत में लेकर बेरहमी से पीटा. उसका गुनाह सिर्फ इतना था कि उसने बगैर वर्दी के पुलिसवाले को आम आदमी समझ कर अपने घर के बाहर हो रही घटना के बारे में पूछ लिया.

पीड़ित हर्षद जादव

पीड़ित हर्षद जादव के मुताबिक 29 दिसंबर की सुबह अपने घर के बाहर जमा भीड़ देखकर उन्होंने पास खड़े एक व्यक्ति से घटना के बारे में जानने की कोशिश की. उनके यह पूछने पर उस व्यक्ति ने हर्षद के गाल पर चांटा जड़ दिया. अपना बचाव करते हुए जब हर्षद ने उसे पीछे की तरफ धकेला तो उस व्यक्ति ने खुद को पुलिसवाला बताते हुए डंडे से उन्हें जमकर पीटा. इतना ही नहीं जब जादव की पत्नी उनका बचाव करने आई तो उनकी पत्नी को भी बुरी तरह पीटा गया.
हर्षद का आरोप है कि उसे 5 घंटे तक हवालात में बंद रखने के बाद डीसीपी हिमकर सिंह ने उसे बुलाकर जाति पूछी. एक पुलिस वाले के बताने पर कि मैं दलित हूं; डीसीपी ने मुझसे उस पुलिसवाले के पैरों में गिर कर माफी मांगने को कहा. डर के मारे मैंने ऐसा किया भी. मेरे ऐसा करने के बाद डीसीपी ने मुझसे उस कॉन्सटेबल के जूते चाट कर मांफी मांगने को कहा. उसी शाम मुझे कोर्ट में पेश किया गया और बाद में ज़मानत पर रिहा कर दिया गया.

इंग्लिश लिट्रेचर में ग्रैजुएट हर्षद जादव ने जब इस पूरे मामले के बारे में अपने पिता को बताया तो उन्होंने दलित समाज के कुछ लोगों के साथ मिलकर पुलिस के खिलाफ एफआईआऱ दर्ज कराई. फिलहाल मामला जांच के लिए सीबीआई को सौंपा दिया गया है.

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.